वेलेंटाइन डे: मुझे बिहार से हुआ प्यार!

>> Monday 14 February 2011

पत्रकारिता के सबक सीखने जब मैं दिल्ली रहने आया था तो मैंने पहली बार देखा था कि बिहारी लोग रेहड़ी- खोमचे वालों के अलावा भी होते हैं। हिमाचल छोड़ कर जाते समय मुझे घर से एक ही ताकीद मिली थी। घरवालों ने मुझे किसी बुरी आदत से बचने के लिए नहीं कहा। जो भी मिला उसने कहा बस बिहारियों से दूर रहना। लेकिन मैनें यहां आकर बिहारी को रूममेट बना लिया। वजह बस इतनी थी कि और कोई मिला ही नहीं। उस समय तक पढ़े- लिखे बिहारी मैंने सिर्फ टीवी पर देखे थे। यहीं पता चला राजनीति के प्रति आम लोग किस हद तक जागरूक होते हैं। हमारे यहां तो राजनीति का मतलब वोट देने और दो -चार दूसरी चीजों से ही होता है। उस समय बिहार की छवि बहुत खराब थी।
अभी पिछले कुछ दिन पहले बिहार जाने का मौका मिला। घर वाले फिर छेड़ने लगे कि संभल कर जाना। मेरे रूममेट की शादी थी इसलिए मैं जाना चाहता था। वरना मैं कभी सोच भी नहीं सकता था कि इतनी जल्दी बिहार जांऊगा। मेरे साथ एक और सज्जन थे जो बिहारी ही थे। एक और बात। हिमाचली होने के नाते मुझे ट्रेन से ल�बी दूरी की यात्रा का भी अनुभव नहीं था। हमारे यहां छोटी रेलगाड़ी होती है जो बस से भी धीरे चलती है।
नई दिल्ली स्टेशन पर ट्रेन पकड़ी। कहने को सीट आरक्षित थी लेकिन पहले से और लोग उस पर काबिज हो चुके थे। हमारी एक सीट उपरी बर्थ की भी थी जो खाली थी। हम दोनों उस पर बैठ गए। बरेली तक ऐसे ही चला। सामने वाली सीट पर भी कुछ लोग बिना आरक्षित सीट के बैठे हुए थे। उनमें एक युवक बिहार से था। एक सज्जन उसे छेड़ते हुए बोले, "लखनऊ तक तो तुम अपनी सीट भी छोड़ दोगे।" बात मुझे समझ नहीं आई। मेरे साथी ने खुलासा किया कि लखनऊ से ही भोजपुरी बाहुल्य क्षेत्र शुरू हो जाता है।
संयोग कहिए या कुछ और। लखनऊ में नजारा दिख ही गया। अभी कुछ देर पहले अपनी सीटों पर हक जता कर यात्री सोये ही थे कि लखनऊ आ गया। जैसे ही ट्रेन रूकी धड़ाधड़ सैंकड़ों युवक ट्रेन में घुस गए। तिल धरने की भी जगह नहीं बची। पता नहीं उतरने वालों का क्या हुआ। मैं ऊपरी बर्थ पर सो रहा था। एक युवक मेरी सीट पर चढ़ आया। मैंने रोकने की कोशिश की लेकिन मुझे भी पता था कि यह असम्भव है। सारी ट्रेन में (कम से कम जहां तक मैं देख सकता था) मैं अकेला था जिसने उन घुसपैठियों का विरोध किया। बाकी सबने बिना कुछ कहे नए मेहमानों को शरण दे दी।
मैं सो रहा था। मेरे पांवों के पास एक युवक बैठा था। धीरे-धीरे एक और युवक मेरे बगल में घुस आया। मैंने सहर्ष उसे सोने के लिए जगह दे दी। फिर पता चला कि लखनऊ में यूनियन बैंक में नौकरी के लिए कोई परीक्षा थी। यह सब युवक पटना जाने वाले थे। हमें बक्सर तक ही जाना था। इसलिए बाकी का सफर आरामदायक तो नहीं था लेकिन मनोरंजन भरा था। ऐसे में मुझे बापू गांधी की बात याद आ गई कि भारत देखना है तो रेलगाड़ी के दूसरे दर्जे में ही यात्रा करें। मैं कहूंगा कि स्लीपर भी उचित विकल्प है। सूर्य उगने से पहले हम ट्रेन से उत्तर चुके थे। जल्दी ही लाल सूरज हमारा स्वागत करने लगा।
गांवों से होते हुए मैं अपने दोस्त के घर जा रहा था। बिहार के गांवों को देखकर बचपन की याद आ गई। मैंने हिमाचल में आखिरी बार तालाब दस-बारह साल पहले देखा था। अब तो उसके निशान भी नहीं दिखाई पड़ते। लेकिन यहां बिहार में हर दो मिनट बाद एक तालाब दिखाई पड़ता था। यहां लोगों ने इतना प्यार दिया कि मैं कभी सोच भी नहीं सकता था। दिल्ली में रहते हुए धारण बन गई थी कि बिहारी चतुर, शातिर, चालबाज और राजनीति करने वाले होत हैं। यहां आकर अपनी सोच पर दया आई। लोग बेहद शरीफ, भोले और सरल थे। बापू गांधी की आत्मकथा में एक शीर्षक है 'बिहारी सरलता'। जब पढ़ा था तो हंसी आई थी। यहां देखा तो आंसू आ गए।
शादी में नाच मण्डली देखी। यह मेरे लिए बिल्कुल नई चीज थी। वापस लौटने तक मुझे बिहार से प्यार हो गया। दरअसल बिहार की खराब छवि के लिए बिहारी लोग ही जिम्मेदार हैं। उन्होंने बिहारी शब्द को शर्म का विषय मान लिया है। इसके विपरीत हमें कोई पहाड़ी या हिमाचली कहता है तो गर्व होता है। जब मैं जा रहा था तो ट्रेन में बिहारी लोगों बात हुई। मैंने बताया कि बिहार देखने जा रहा हूं। उनके भाव ऐसे थे कि क्या बिहार भी देखने लायक चीज है क्या? मैं कहता हूं बिहार प्यार करने लायक चीज है।

Read more...

यह अँधा कानून है!

>> Tuesday 4 May 2010


मुंबई हमलों (26 /11 ) पर माननीय अदालत का फैसला आ गया। अजमल आमिर कसाब दोषी साबित हुआ. लेकिन न्यायालय ने दोनों भारतीय आरोपियों फहीम अंसारी और सबाउद्दीन अहमद को बरी कर दिया. साल भर सलाखों के पीछे रखने, मीडिया द्वारा उन्हें आंतकवादी करार देने और उनके घरवालों की मिटटी पलीद करने के बाद उन्हें बरी कर दिया. यही बात सबसे ज्यादा चुभती है. अब भले ही वे लोग अगली अदालत से भी छूट जाएँ लेकिन उन पर लगा कलंक कभी नहीं मिट पायेगा. इतना भी होता तो भी खैरियत थी. अफ़सोस! शायद ही वक़्त उनके दिल पर लगे जख्मों पर मरहम लगा पायेगा. उनका आक्रोश भुनाने के लिए लोग तैयार बैठे हैं. कम से कम 'मेरी अल्पविकसित बुद्धि' में यह बात नहीं समाती है की किस विनाह पर निर्दोष लोगों को गिरफ्तार किया जाता है. अदालत में सीबीआई का मज़ाक बन गया. आरोप लगाया गया था कि अंसारी ने रेकी करके हमले के लिए संभावित जगहों का नक्शा बनाया था और इसे नेपाल में सबाउद्दीन को सौंप दिया था। आरोप के मुताबिक, सबाउद्दीन ने इस नक्शे को लश्कर-ए-तोयबा को दिया था। अदालत ने इस कहानी को लगभग हास्यपद करार देते हुए कहा कि जो नक्शा बरामद किया गया है उससे कहीं बेहतर नक़्शे तो गूगल और विकेपेडिया जैसी वेबसाईटोंपर मौजूद हैं. इसके अलावा अगर मुंबई हमलों के मृतक आरोपियों या कसाब से नक्शा बरामद हुआ होता तो यह गन्दा होता, खून से लथपथ होता. इस तरह अदालत ने दोनों के खिलाफ दिए गये सभी सबूत ख़ारिज कर दिए और उन्हें बरी कर दिया. इस मामले में तो फहीम और सलाउद्दीन को एक साल ही काल कोठरी में गुजरना पड़ा. दुर्भाग्य तो यह है कि कई निर्दोष लोगों कि जिंदगी जेल में बिना किसी कसूर के बीत जाती है. अभी हाल ही में लाजपतनगर बम विस्फोट कांड में फैसला आया. उसमें एक कश्मीरी युवक को बरी किया गया. उसे 14 साल पहले दिल्ली के जंगपुरा इलाके से रात तीन बजे पुलिस पकड़ कर ले गयी थी. उस समय वह महज 12 वीं का छात्र था और अपने भाई के पास दिल्ली घूमने आया था. पुलिस न जाने किस आधार पर उसे पकड़ कर ले गयी. 14 साल बाद उसे जेल से रिहा कर दिया गया और कहा गया कि तुम बेगुनाह हो. इस बीच उसके बाप और बहन कि मौत हो गयी. अब वह युवक पागलपन से बदतर हालत में है. बिडम्बना तो यह है कि मीडिया ऐसे मामलों को दरकिनार कर देती है. भला हो इंडियन एक्सप्रेस जैसे चंद अख़बारों का जो अपना फ़र्ज़ आज भी निभा रहे हैं. वरना क्या मालूम कल पुलिस मुझे या आपको भी पकड़ कर ले जाये और फिर कई साल बाद कह दे, 'सॉरी आप निर्दोष हैं'

Read more...

भाषा हिमाचल की.. धड़कन दिल की

>> Thursday 25 March 2010

दुनिया बहुत बड़ी है। इतनी विशाल कि इसे पूरी तरह जान पाना नामुमकिन है। फिर इंसानों के पास अब वक्त भी कहां है। लोग अब खुद को भी भूलने लगें हैं। अपनी जड़ों से दूर हो गए हैं। ऐसा ही कुछ हाल हिमाचली पहाड़ी भाषा का है। यूं तो इस दुनिया में डेढ़ करोड़ से भी ज्यादा लोग हिमाचली बोलते हैं लेकिन फिर भी हालात बदतर हैं। हिमाचल तो 1948 में ही राज्य बन गया था। पहाड़ी अब तक भाषा नहीं बन पाई। कारण साफ है। दरअसल हमारे देश में जरूरत और जनाकांक्षांओं से ज्यादा महत्व नेताओं की मर्जी का होता है। यह हाल तब है जब राज्य का गठन ही भाषा के आधार पर हुआ था। हिमाचल के नेताओं को पहाड़ी में कोई दिलचस्पी नहीं है। वरना आज प्रदेश हर क्षेत्र में अव्वल है। बेहतरीन शिक्षा, आश्चर्यजनक साक्षरता, चौबीस घंटे बिजली, दुर्गम इलाकों में भी सड़कें, देश में सबसे ज्यादा प्रति व्यक्ति आय, अपराध शून्यता और चौतरफा विकास। हिमाचल ने हर जगह चौंकाने वाले अन्दाज में झण्डे गाड़े हैं। लेकिन दिल की धड़कन को ही सुना। भाषा के बारे में कभी सोचा ही नहीं। हमारे नेता साहित्यक जो नहीं रहे। इसका खामियाजा भी हमने खूब भुगता है। अब भी सह रहें हैं। दुनिया भर में हिमाचल महज पर्यटन स्थल बन के रह गया है। अपना अस्तित्व खो चुका है। पहाड़ी भाषा को सम्मान न मिल पाना घातक सिद्ध हुआ है। ऐसा नहीं है कि कोई प्रयास ही नहीं हुआ। पहाड़ी के लेखकों ने साठ साल पहले ही लिखना शुरू कर दिया था। पहाड़ी का अपना विपुल साहित्य है। इसमें अब तक तकरीबन 300 कविता संग्रह, 100 कहानी संग्रह, 150 नाटक व जोड़ा जैसे उपन्यास लिखे जा चुके हैं। साहित्य अकादमी और नेशनल बुक टस्ट के तहत भी पहाड़ी काव्य मौजूद है। भवानी दत्त शास्त्री की श्रीमद्भागवत गीता, डा प्रत्यूष गुलेरी की हिमाचली कहानियां और लोक कथाएं, डा प्रेम भारद्वाज की कविता सिरां, मौलू राम ठाकुर का हिमाचली भाषा का मोनोग्राफ, पंकज का महाभारत और संसारचन्द का माया पहाड़ी के महाकाव्य बने हुए हैं। दुर्भाग्य से यह सब प्रयास सीमित हैं। सच यही है कि पहाड़ी भाषा नहीं है। यह महज एक बोली है। पहाड़ी का असीमित ज्ञान मौखिक है। डा प्रत्यूष गुलेरी कहते हैं कि पहाड़ी को साठ साल पहले ही भाषा का दर्जा मिल जाना चाहिए था। लोग कहते हैं कि पहाड़ी में विविधता है। हर चार कोष पर इसका रूप बदलने लगता है।श्डा गुलेरी इसका भी जबाव देते हैं। वे कहते हैं कि यही तो अज्ञानता है। भाषा के प्रति नासमझी है। दरअसल हर भाषा में बोलियां होती हैं। पहाड़ी में भी हैं। हिन्दी, बांग्ला, तमिल, गुजराती, मराठी, तेलगू आदि भाषाओं में भी बोलियां हैं। दरअसल यही बोलियां भाषा को समृद्ध बनाती हैं। सरकार को कम से कम पहाड़ी में शोध और एमए आदि की शुरूआत करनी चाहिए। हिमाचल के समाचारपत्रों, पत्रिकाओं और टीवी चैनलों को भी पहाड़ी के लिए स्थान मुहैया कराना चाहिए। इसकी सख्त जरूरत है। आजकल इंटरनेट का जमाना है। माई हिमाचल जैसी वेबसाइटें प्रदेश को समर्पित हैं। इन्हें भी पहाड़ी को महत्व देना चाहिए। पहाड़ी बोलने वालों को भी अपनी मातृभाषा में ब्लॉग बनाने चाहिए। इसी प्रेरणा से हिमाचली पहाड़ी को समर्पित पहला ब्लॉग शुरू किया गया है। अभी यह आरम्भिक चरण में है। ब्लॉग देखने के लिए http://galsuna.blogspot.com/ पर क्लिक करें। यह प्रयास बहुत ही छोटे स्तर पर शुरू हुआ है। भले ही इसमें कमियां हों लेकिन आपके सहयोग से हर बाधा पार कर ली जाएगी. इस पत्र के माध्यम से मैं आपसे मदद मांगता हूँ. आपसे अपील है की आप हमें लिखने के लिए मंच दें ताकि हम पहाड़ी और हिमाचल के विकास और निर्माण में योगदान दे सकें इसके अलावा आप पहाड़ी लेखन को भी बढ़ाबा दें.

Read more...
Related Posts with Thumbnails

  © Free Blogger Templates Autumn Leaves by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP